BLOG

बाल श्रम कालेधन का बड़ा स्रोत : कैलाश सत्यार्थी

नई दिल्ली (टीम डिजिटल)। नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने बाल श्रम को कालेधन का बड़ा स्रोत बताते हुए कहा कि इसके जरिए करोड़ों रुपए का खेल चल रहा है लेकिन इस तरफ किसी का ध्यान नहीं जा रहा है।

बंधुआ मजदूरी और बालश्रम के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले सत्यार्थी ने कहा कि बालश्रम के नाम पर हजारों कारखानों में लाखों बच्चों से न्यूनतम मजदूरी पर काम करवाया जाता है और कम्पनी का मालिक वयस्क मजदूर के अनुसार अपने खाते की पूॢत करता है। इसमें करोड़ों रुपए का हेर-फेर हो रहा है लेकिन प्रशासनिक अमले का इस तरफ ध्यान नहीं है।


‘करुणा का वैश्वीकरण’ अभियान शुरू करेंगे कैलाश सत्यार्थी

सत्यार्थी ने बाल श्रम को मानवता के खिलाफ सबसे घृणित अपराध बताया। उन्होंने इस अभिशाप से त्रस्त दुनियाभर के लाखों बच्चों को इससे मुक्ति दिलाने के लिए कड़ी राजनीतिक इच्छाशक्ति का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि राजनीतिक इच्छाशक्ति और सामाजिक दबाव से इसे दूर करने में मदद मिल सकती है।

उन्होंने कहा देश में बाल अधिकारों अथवा बच्चों से जुड़ी समस्याओं को लेकर संसद के दोनों सदनों में आज तक एक दिन भी चर्चा नहीं हो पाई है। इससे हमारे राजनेताओं की इच्छाशक्ति का पता चलता है। शायद बच्चे वोटर नहीं हैं, इसलिए इनके मुद्दों को गंभीरता से नहीं लिया जाता। इसके साथ ही आज तक किसी भी धर्म के धार्मिक गुरु ने बालश्रम, बाल तस्करी तथा बंधुआ मजदूरी जैसे मुद्दों को अपने संबोधन में शामिल नहीं किया है।


News Source: https://www.navodayatimes.in/news/delhi/kailash-satyarthi-said-child-labor-is-a-major-source-of-black-money/22708/

5 views0 comments